Alumni supported younger Brother

A very very ….. special…thanks….to you….all my….dearest…. friends….and my. ….. dearest….bhaiyaa…..I am not able to believe that….I am going to join nit Agartala from cse branch……..I am extremely happy….I really want to enjoy this……and this smile on my face….is only due to all….our..alumni…..now I am understanding the power….of alumni, meaning of organisation of alumni meet…… in our school and College…..you all are very helpful….I never feel any type of problems during this compaign due to all of your Caring..nature……mai apni puri kosis karunga…aap sab ke vishwash ko jeetne…ka…….thanqqq very much..bhaiya.❣️❣️❣️❣️❣️❣️to you all my bhaiya…….

Pravesh Kumar (2013-2020)

Posted in Inspiration | Leave a comment

Navodaya Mission: Spiritual Strength from Service

Corona Warrior: Donate for Survival

IMG-20200418-WA0032

Image | Posted on by | Leave a comment

Our Art Teacher Sh D N Mahto

IMG-20200503-WA0017

Image | Posted on by | Leave a comment

Sahitya Sanskriti Foundation

IMG-20200216-WA0014

IMG-20200217-WA0016

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Congratulation Mritunjaya

Special thanks to Mrityunjay (2001-2008) for inviting our beloved school teachers in his wedding. Such kind of respect and family type belonging should go on.

IMG-20200205-WA0022

Posted in Inspiration, Teachers | Leave a comment

Kalyani Di

“Heartiest thanks to my alma mater to giving me wings to reach to my dream destination of being director of publishing company.”_ Kalyani Karn

IMG-20190926-WA0015

Image | Posted on by | Leave a comment

Navodaya Inspiration

Image | Posted on by | Leave a comment

Pathetic Condition and Students’ Reaction

IMG-20190806-WA0006

Image | Posted on by | Leave a comment

Coolie Lines

कुली लाइन्स 

हिन्द महासागर के रियूनियन द्वीप की ओर 1826 ई. में मज़दूरों से भरा जहाज़ बढ़ रहा था। यह शुरुआत थी भारत की। जड़ों से लाखों भारतीयों को अलग करने की। क्या एक विशाल साम्राज्य के लालच और हिन्दुस्तानी बिदेसियों के संघर्ष की यह गाथा भुला दी जायेगी? एक सामन्तवादी भारत से अनजान द्वीपों पर गये ये अँगूठा-छाप लोग आख़िर किस तरह जी पायेंगे? उनकी पीढ़ियों से। हिन्दुस्तानियत ख़त्म तो नहीं हो जायेगी?

लेखक पुराने आर्काइवों, भिन्न भाषाओं में लिखे रिपोर्ताज़ों और गिरमिट वंशजों से यह तफ़्तीश करने निकलते हैं। उन्हें षड्यन्त्र और यातनाओं के मध्य खड़ा होता एक ऐसा भारत नज़र आने लगता है, जिसमें मुख्य भूमि की वर्तमान समस्याओं के कई सूत्र हैं। मॉरीशस से कनाडा तक की फ़ाइलों में ऐसे कई राज़ दबे हैं, जो ब्रिटिश सरकार पर ग़ैर-अदालती सवाल उठाते हैं। और इस ज़िम्मेदारी का अहसास भी कि दक्षिण अमरीका के एक गाँव में भी वही भोजन पकता है, जो बस्ती के एक गाँव में। ‘ग्रेट इंडियन डायस्पोरा’ आख़िर एक परिवार है, यह स्मरण रहे। इस किताब की यही कोशिश है।

https://www.amazon.in/s?k=coolie+lines&i=stripbooks&ref=nb_sb_noss_2

प्रवीण कुमार झा, जवाहर नवोदय विद्यालय दरभंगा के पूर्व छात्र, कथेतर रुचि के लेखक हैं। उनके बहुमुखी लेख भारतीय अखवारों- पत्रिकाओं-हिन्दुस्तान प्रभात ख़बर, द कैपिटल पोस्ट, प्रजातन्त्र, ‘सदानीरा और मुख्य मीडिया पोर्टलों पर प्रकाशित होते रहे हैं। इसके अतिरिक्त उन्होंने एक सामाजिक व्यंग्य-संग्रह ‘चमनलाल की डायरी’, और दो यात्रा संस्मरण-आइसलैण्ड और नीदरलैण्ड पर भी लिखे। प्रवीण का जन्म बिहार में हुआ, और वह भारत के भिन्न-भिन्न शहरों से गुज़रते अमरीका और यूरोप महादेश में रहे। वह निवर्तमान नॉर्वे (यूरोप) में विशेषज्ञ चिकित्सक हैं।

Posted in Inspiration | Leave a comment

Congratulation to RANJAN NIKHIL DHARNIDHAR bhaiya

               “Mr. RANJAN NIKHIL DHARNIDHAR,You have been allotted AOR code:2819 in the Supreme Court Of India.”

JNV Darbhanga Family congratulate Nikhil Bhaiya for becoming Advocate-on-Record of the Supreme Court of India. I would like to quote his words:

“I’m now an Advocate-on-Record of the Supreme Court of India.”

Such things may inspire coming generation to work diligently for such moments in their lives.

 

Posted in Uncategorized | Leave a comment